घर


मैं देखूँ अंत तक , उस पार है मेरा घर बादलों सा करूँ तय सफ़र, थोड़ा उड़ते हुए, थोड़ा तैर कर । है ठहराव सा इस लम्हे में ,साँसें टकराए है हवाओं से मैं परिंदा सा , बहका हुआ ,तकता फिरूँ, अपना घर । आवाज़ मेरी, मेरे मन में चिल्लाए है, गाए है धुन बिरहा…

Day 44. प्रिये


जब घने अंधेरे होंगे दूर सवेरे होंगे होंठों की लालिमा पर ग़मों के पहरे होंगे तुम रहना मेरे पास प्रिये मैं दिया बन जलूँगा रातों को राख करूँगा कोमल से चेहरे पर मीठी मुस्कान बनूँगा जब तूफ़ान के साये होंगे जो मुश्किलों की टोकरी साथ लाए होंगे, टूटे हुए पत्ते, हवा में उड़के हमारे आँगन…

Day 34. Precise Love


I don’t seek a perfect love a greatest timing some fairy tale or artistic moments rather I am happy in all your imperfections in your unpolished edges and rough patches I will be supportive in all your weaknesses in your lousy runs and tough lucks I do not even have the high expectations Neither I…

Remember


This post is not my creation, It was presented to me by one of my best friend. I liked it and asked her permission to post it on my blog. She agreed and here it comes a nice piece of writing.

थोड़े हम, थोड़े तुम


छूठे हाथो में टूटे वादों में अधूरी बातों की पूरी यादों में थोड़े बिखरे हम , थोड़े तुम, अँधियारी शब में, बेचैनी बेहद मे, चलते क़दमों की बुझती आहट में खोये खोये हम, थोड़े तुम अनजान रास्तों में जागती नज़रों में, ढूँढे ना मिलते , अपने साये के पते , ये जो रात चुप है,…

Treasure of Life


My life is a quest of a treasure And that treasure of my life is you I find your beauty, precious as gold Valued at most, realised by few. A jewel in the box,  and a shining chain your eyes are the diamond For which I am insane A quest of treasure in the depth…

2. The Poetic her


It is the second part of short story Reborn.

Vipul reads out the letter and think about the girl who had sent it to him.